देश

जानिए गूगल के सीईओ की लव स्टोरी

सुन्दर पिचाई अब गूगल के साथ साथ उसकी पैरेंट कंपनी अल्फाबेट के भी सीईओ है। सभी लोग उनकी सक्सेस जर्नी को जानते है और एडमाइर करते है, लेकिन ऐसे बहुत कम लोग है जो की इनकी लव लाइफ के बारे मे जानते है। इनकी प्रेम कहानी बहुत ही सिंपल है। सुंदर पिचाई की पत्नी का नाम अंजलि हैं और वो पेशे से केमिकल इंजीनियर हैं। दोनों ने आईआईटी खड़गपुर से पढ़ाई की है। दोनों एक ही बैच में थे। शुरुआत में दोनों एक-दूसरे के बहुत अच्छे दोस्त थे। दोनों एक-दूसरे के साथ बहुत वक्त बिताते थे। समय के साथ-साथ ये दोस्ती प्यार में बदल गई। फाइनल ईयर में आकर पिचाई ने अंजलि को प्रपोज कर दिया और अंजलि ने इसके लिए तुरंत हां कर दिया। सुंदर पिचाई ने खुद एक बार आईआईटी खड़गपुर में अपनी प्रेम कहानी सुनाते हुए बताया था कि उस समय स्मार्टफोन के बिना एक-दूसरे से मिलना और बात करना कितना मुश्किल होता था। उन्होंने बताया कि उस समय वहां कॉलेज का एक ही गर्ल्स हॉस्टल था। अंजलि से बात करने के लिए पिचाई गर्ल्स हॉस्टल के बाहर खड़े हो जाते थे और जब भी कोई लड़की हॉस्टल के अंदर जाती थी तो वो उससे अंजलि को भेजने के लिए कहते थे। फिर वह लड़की हॉस्टल में जाकर चिल्लाती- ‘अंजलि, तुमसे मिलने के लिए सुंदर बाहर खड़ा है। ‘ पर इनके प्रेम की असली परीक्षा कॉलेज के बाद हुई जब सुंदर को आगे की पढ़ाई के लिए अमेरिका जाना पड़ा और अंजलि भारत में हीं रहीं।उस समय सुंदर की आर्थिक हालत अच्छी नहीं थी।

सुंदर ने बताया कि कैसे वो और अंजलि बड़ी मुश्किल से एक-दूसरे से बात कर पाते थे। एक दौर ये भी आया जब दोनों के बीच 6 महीनें तक कोई बात नहीं हुई. पर इसका असर उनके रिश्ते पर नहीं पड़ा।
जल्दी ही अंजलि की भी जॉब अमरिका में लग गई और सुंदर भी एक सेमीकंडक्टर फर्म में नौकरी करने लगे थे। एक सिक्योर नौकरी लगने के बाद सुंदर को लगा कि अब अपने प्यार को जीवनसाथी बनाने का वक्त आ गया है।
सुंदर ने भारत आकर अंजलि के माता-पिता से शादी की इजाजत मांगी। परिवार की रजामंदी के बाद दोनों ने शादी की और वापस से अमेरिका जाकर बस गए।
लोग अंजलि को सुंदर का लकी चॉर्म कहते हैं। गूगल के सीईओ बनने से पहले सुंदर पिचाई को माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ पद का ऑफर मिला था। इसके अलावा याहू और ट्विटर से भी उन्हें अच्छे ऑफिर मिले थे। इतने अच्छे ऑफर देखकर सुंदर ने गूगल छोड़ने का पूरा मन बना लिया था। लेकिन उनकी पत्नी अंजलि ने उन्हें गूगल न छोड़ने की सलाह दी। सुंदर ने अंजलि की बात मानकर गूगल में ही रहने का मन बना लिया।

Related posts

प्रधानमंत्री ने ड्यूटी पर न पहुंचने वाले मंत्रियों के मांगे नाम…..

gyan singh

आज जरूर भरें आईटीआर, नहीं बढ़ेगी अंतिम तिथि…

News Desk

भारत और अमेरिका के तटरक्षकों ने चेन्नई तट पर संयुक्त अभ्यास में लिया हिस्सा

News Desk

Leave a Comment