Category : इतिहास के झरोखे से

इतिहास के झरोखे से ओपिनियन

क्या आप जानते हैं मेजर ध्यानचंद ने देश के लिए ठुकराया था हिटलर का प्रस्ताव

Administrator TehelkaMP
आज जन्मदिवस पर विशेष सौम्या वर्मा, तहलका एमपी-सीजी। वीर बुंदेलखंड धरती के लाल मेजर ध्यानचंद खेल जगत का वो नाम हैं जिन्हें सदी का खिलाड़ी कहा
इतिहास के झरोखे से

एक व्यंग्यकार जिसने साहित्य को दी थी नयी विधा

News Desk
सौम्या वर्मा , तहलका एमपीसीजी / हरिशंकर परसाई ऐसे लेखकों में से हैं जिन्होंने साहित्य को एक नयी दिशा दी। परसाई ने साहित्य में व्यंग्य जैसी
इतिहास के झरोखे से

सूफ़ी आन्दोलन:हिन्दू-मुस्लिम एकता पर बल

Manager TehelkaMP
मध्य काल के दौरान दो परस्पर विरोधी आस्थाओं एवं विश्वासों के ख़िलाफ़ सुधार अति आवश्यक हो गया था। इस समय समाज में ऐसे सुधार की
इतिहास के झरोखे से

आखिर टैगोर ने वापस क्यों की थी ‘नाइटहुड’ की उपाधि…?

News Desk
तहलका एमपी-सीजी। भारत के राष्ट्र गान की रचना करने वाले रवींद्र नाथ टैगोर का निधन 7 अगस्त 1941 को हुआ था। ये एक बांग्ला कवि,
इतिहास के झरोखे से

जानिये क्यों पड़ा धनपत राय श्रीवास्तव का नाम प्रेमचंद !

News Desk
उपन्यास के सम्राट और कहानियों के पितामह कहे जाने वाले मुंशी प्रेमचंद की आज पुण्यतिथि है।  प्रेमचंद जी का जीवन काल सिर्फ साहित्य को समर्पित
इतिहास के झरोखे से

1857 की क्रांति का आगाज़ किया था , ‘मंगल पांडेय’ ने …..वीर योद्धा मंगल पांडेय को जयंती पर नमन….

Manager TehelkaMP
तहलका एमपी न्यूज। 19 जुलाई 1827 को एक ब्राह्मण परिवार में जन्में मंगल पांडेय भारतीय इतिहास में क्रांति का दूसरा नाम हैं । पाण्डेय का जन्म