Category : पर्यटन

पर्यटन

मैसूर:यह शहर मशहूर है साड़ियों, चंदन के तेल और चंदन की लकड़ी से बने सामान के लिए …!

News Desk
मैसूर शहर, दक्षिण मध्य कर्नाटक, भूतपूर्व मैसूर राज्य, दक्षिणी भारत में है। यह चामुंडी पहाड़ी के पश्चिमोत्तर में 770 मीटर की ऊँचाई पर लहरदार दक्कन
पर्यटन

बेलूर : इस शहर को कहा जाता है दक्षिण का काशी भी ..!

News Desk
बेलूर, कर्नाटक के सबसे प्रसिद्ध स्‍थलों में से एक है। यह हसन जिले में स्थित है, इसे मंदिरों का शहर भी कहा जाता है जो
पर्यटन

नागरहोल अभयारण्य: यहां देखे जा सकते हैं हाथियों के बड़े-बड़े झुंड …!

News Desk
कर्नाटक में स्थित नागरहोल अपने वन्य जीव अभयारण्य के लिए विश्व भर में प्रसिद्ध है। यह उन कुछ जगहों में से एक है जहां एशियाई
धर्म-अध्यात्म पर्यटन

शिवनासमुद्र फाल्स: इस झरने को जाना जाता है शिव समुद्र के रूप में भी

News Desk
भारत की खूबसूरत, सुंदर, प्राकृतिक आश्चर्यों से भरपूर धरा मे अनेक खुबसूरत और मनमोहक झरने या जलप्रपात या वाटरफॉल है। उन्हीं में से एक शिवनासमुद्र
धर्म-अध्यात्म पर्यटन

चित्रगुप्त मंदिर: इस मंदिर का मुख्य आकर्षण है सात घोड़ों वाले रथ पर खड़े हुए सूर्यदेव की शानदार मूर्ति

News Desk
चित्रगुप्त मंदिर मध्य प्रदेश राज्य के छत्तरपुर ज़िले में स्थित छोटे-से क़स्बे खजुराहो में अवस्थित है। यह पूर्व की ओर मुख वाला मंदिर है। मंदिर
धर्म-अध्यात्म पर्यटन मंदिर

गोलकुंडा: का किला प्रसिद्ध था हीरे-जवाहरातों के लिये

News Desk
गोलकुंडा एक क़िला व भग्नशेष नगर है। यह आंध्र प्रदेश का एक ऐतिहासिक नगर है। हैदराबाद से पांच मील पश्चिम की ओर बहमनी वंश के
पर्यटन

एहोल: इसे कहा गया है भारतीय मन्दिर वास्तुकला की पाठशाला..!

News Desk
एहोल कर्नाटक के बीजापुर में स्थित, बादामी के निकट, बहुत प्राचीन स्थान है।एहोल चौथी शताब्दी से बारहवीं शताब्दी सीई के माध्यम से उत्तर कर्नाटक (भारत)
धर्म-अध्यात्म पर्यटन मंदिर

चंडी देवी मंदिर:हरिद्वार के भीतर स्थित पंच तीर्थ में से एक है यह मंदिर

News Desk
चंडी देवी मंदिर उत्तराखंड राज्य के हरिद्वार में स्थित है। चंडी देवी का मंदिर हिंदुओं का एक प्रसिद्ध मंदिर है। चंडी देवी मंदिर हिमालय की
पर्यटन

गोल गुम्बद: दुनिया का सबसे बड़ा मकबरा

News Desk
गोल गुम्‍बद दुनिया का दुसरा सबसे बड़ा मकबरा है और बीजापुर के सुल्‍तान मुहम्‍मद आदिल शाह का मकबरा भी है। इस इमारत का निर्माण धावुल