Category : हेल्थ

लाइफस्टाइल हेल्थ

इस आसन को करने से मजबूत होती है रीढ़ की हड्डी…

News Desk
वृक्षासन संस्कृत भाषा का शब्द है जहां वृक्ष का अर्थ पेड़ और आसन का अर्थ बैठना या मुद्रा है। जब इस मुद्रा का अभ्यास प्रभावी
लाइफस्टाइल हेल्थ

ऊर्जा प्रदान कर हमें चुस्त बनाती है यह मुद्रा…

News Desk
सूर्य का अर्थ होता है अग्नि, सूर्य मुद्रा को करने से हमारे भीतर के अग्नि तत्व संचालित होते हैं। सूर्य की अँगुली अनामिका को रिंग
हेल्थ

ऊर्जा प्रदान कर हमें चुस्त बनाती है ये योग मुद्रा

Manager TehelkaMP
सूर्य का अर्थ होता है अग्नि, सूर्य मुद्रा को करने से हमारे भीतर के अग्नि तत्व संचालित होते हैं। सूर्य की अँगुली अनामिका को रिंग
हेल्थ

पृथ्वी तत्व को जागृत करता है यह आसन…

News Desk
पृथ्वी मुद्रा एक ऐसी प्रक्रिया है, जिसके द्वारा मनुष्य अपने भौतिक अंतरत्व में पृथ्वी तत्व को जाग्रत करता है और शरीर में बढ़ने वाले अग्नि
लाइफस्टाइल हेल्थ

प्राणशक्ति का केंद्र है यह आसन…

News Desk
प्राण मुद्रा क्या है प्राण मुद्रा को प्राणशक्ति का केंद्र माना जाता है और इसको करने से प्राणशक्ति बढ़ती है। इस मुद्रा में छोटी अँगुली
हेल्थ

वात रोगों में बहुत ही लाभकारी ये योग मुद्रा

Manager TehelkaMP
वायु मुद्रा का अभ्यास करने से शरीर में वायु का संतुलन बना रहता है। आयुर्वेद के अनुसार हमारे शरीर के अंदर चौरासी तरह की वायु
हेल्थ

श्रवण क्षमता को बढ़ाती है ये मुद्रा

Manager TehelkaMP
शून्य का अर्थ होता है आकाश। हमारी मध्यमा उंगली आकाश से जुडी हुई होती है। ये मुद्रा हमारे शरीर के अन्दर के तत्वों में संतुलन
हेल्थ

इस मुद्रा से बढ़ता है ज्ञान

Manager TehelkaMP
संस्कृत में ज्ञान का मतलब होता है बुद्धिमत्ता। । इसका नियमित अभ्यास करने से बुद्धिमत्ता में वृद्धि होती है। जब हम ज्ञान मुद्रा में योग
हेल्थ

सर्वाइकल स्पोंडलाइटिस, थाइराइड ग्लांट्स के लिए लाभदायक ये मुद्रा

Manager TehelkaMP
ब्रह्म का अर्थ होता है विस्तार। ब्रह्म शब्द का उपयोग परमेश्वर के लिए किया जाता है। ब्रह्म मुद्रा को मुद्रा, क्रिया और आसन की श्रेणी
हेल्थ

पांच प्रमुख योग मुद्रा: सिर्फ साधकों के लिए

Manager TehelkaMP
मुख, नाक, आंख, कान और मस्तिष्क को पूर्णत: स्वस्थ्य तथा ताकतवर बनाने के लिए हठ योग में पांच प्रमुख मुद्राओं का वर्णण मिलता है। सामान्यजनों