Category : धर्म-अध्यात्म

धर्म-अध्यात्म

ईश्वर नाम की कोई वस्तु नहीं है संसार में…

News Desk
जिस प्रकार आस्तिक दर्शनों में शंकर दर्शन शिरोमणि के रूप में स्वीकृत है उसी प्रकार नास्तिक दर्शनों में सबसे उत्कृष्ट नास्तिक के रूप में शिरोमणि
धर्म-अध्यात्म

सूफ़ी सन्त ईश्वर को ‘प्रियतमा’ एवं स्वयं को ‘प्रियतम’ मानते थे…

News Desk
सूफ़ी आन्दोलन:हिन्दू-मुस्लिम एकता पर बल   मध्य काल के दौरान दो परस्पर विरोधी आस्थाओं एवं विश्वासों के ख़िलाफ़ सुधार अति आवश्यक हो गया था। इस
ज्योतिष

प्रेम-प्रसंगों के लिए आज का दिन अनुकूल रहेगा वृश्चिक राशि वालों के लिए, जानिये आज का राशिफल…

News Desk
मेष  घरेलू जीवन सुखी रहेगा। यदि विदेश जाने के लिए प्रयासरत थे, तो उसमें सफलता मिलने वाली है। घर या गाड़ी ख़रीदने के इच्छुक हैं
ज्योतिष धर्म-अध्यात्म

जानिए कैसा होगा आपका आज का दिन

Manager TehelkaMP
मेष घरेलू जीवन सुखी रहेगा। यदि विदेश जाने के लिए प्रयासरत थे, तो उसमें सफलता मिलने वाली है। घर या गाड़ी ख़रीदने के इच्छुक हैं
ज्योतिष

आज नई कार खरीदने का योग हैं वृष राशि वालों के लिए, जानिये इस रक्षाबंधन क्या कहता है आपका राशिफल…

News Desk
मेष आज आपको विदेश से कोई खुशखबरी मिलने के संकेत हैं। आज विदेश से आपको आर्थिक लाभ के संकेत हैं। कहीं दूर से आसानी से
धर्म-अध्यात्म

कब है राखी बांधने का सबसे अच्छा शुभ मुहूर्त…

Manager TehelkaMP
एजेसी। 15 अगस्त को रक्षाबंधन का त्योहार है। यह त्योहार भाई और बहन के अटूट रिश्ते और प्यार की निशानी है। इस त्योहार में बहनें
धर्म-अध्यात्म

यह एक दर्शन नहीं, अपितु दर्शनों का समूह है…

News Desk
भगवान बुद्ध द्वारा प्रवर्तित होने पर भी बौद्ध दर्शन कोई एक दर्शन नहीं, अपितु दर्शनों का समूह है। कुछ बातों में विचार साम्य होने पर
ज्योतिष

अनावश्यक खर्चा कम करें कन्या राशि वाले जातक, क्या कहता है आपका आज का राशिफल…

News Desk
मेष नई योजनाएं शुरू होंगी। परिवार के साथ मस्ती करेंगे। केवल अपने प्रयासों से आप लोकप्रियता और सामाजिक सम्मान प्राप्त करेंगे।मन में उत्साह रहेगा, जिससे
धर्म-अध्यात्म

मोक्ष प्राप्त करने का पवित्रतम स्थान

Manager TehelkaMP
सोनागिरि ग्वालियर से लगभग 60 किमी दूर, छोटी पहाड़ियों पर 9 वीं और 10 वीं शताब्दी के जैन मंदिर हैं। चंद्र-पवित्र (8 वें तेरथंकर) के
धर्म-अध्यात्म

जैन दर्शन और उसका उद्देश्य

Manager TehelkaMP
कर्मारातीन् जयतीति जिन:' इस व्युत्पत्ति के अनुसार जिसने राग द्वेष आदि शत्रुओं को जीत लिया है वह 'जिन' है। अर्हत, अरहन्त, जिनेन्द्र, वीतराग, परमेष्ठी, आप्त