इंदाैर मध्यप्रदेश

इंदौर आई हॉस्पिटल के डायरेक्टर और सुपरिंटेंडेंट के खिलाफ एफआईआर दर्ज….

तहलका एमपीसीजी। इंदौर आई हॉस्पिटल में मोतियाबिंद के ऑपरेशन के बाद मरीजों की आंखों की रोशनी जाने के मामले में आखिरकार छत्रीपुरा पुलिस ने हॉस्पिटल के मेडिकल डायरेक्टर डॉ. सुधीर महाशब्दे और मेडिकल सुपरिंटेंडेंट डॉ. सुहास बांडे के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली। दोनों के खिलाफ धारा 336, 337 और 338 के साथ 34 लगाई गई है।  इसके लिए प्रशासन और सीएमएचओ डॉ. प्रवीण जड़िया को काफी मशक्कत करना पड़ी। पुलिस दस्तावेजों में कमी बताकर केस दर्ज नहीं कर रही थी। सीएमएचओ ने बुधवार और गुरुवार को थाने में करीब सात घंटे बिताए। इसके बाद अपर कलेक्टर कैलाश वानखेड़े ने पुलिस अफसरों को फोन किए, तब गुरुवार शाम चार बजे एफआईआर दर्ज हो सकी। 

दोनों डॉक्टरों पर जो धाराएं लगाई गई हैं, वह तब लगती हैं, जब कोई अपना काम इस तरह उपेक्षापूर्वक करे कि इससे किसी के जीवन पर खतरा आ जाए। धारा 336 में अधिकतम तीन माह की सजा व ढाई सौ रुपए अर्थदंड, धारा 337 में अधिकतम छह माह की सजा व 500 रुपए अर्थदंड और 338 में अधिकतम दो साल की सजा व एक हजार रुपए का अर्थदंड लगता है। धारा 34 अपराध में एक से अधिक लोगों के होने पर लगती है। यह सभी धाराएं जमानती हैं। गौरतलब है कि मोतियाबिंद ऑपरेशन के दौरान 15 मरीजों को संक्रमण हुआ था जिनमें से 5 की आंखों की रोशनी चली गई थी।

Related posts

मध्यप्रदेश में तबादलों का दौर जारी। प्रतीक हजेला राज्य सरकार के स्वास्थ्य आयुक्त….

News Desk

विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र को जीवित रखने वाले हम मतदाता

Narendra

सड़क हादसे में कांग्रेस नेता पद्मश्री प्रह्लाद टिपानिया घायल, एक की मौत….

gyan singh

Leave a Comment