मुंबई

भारत की पहली अस्पताल ट्रेन पहुंची मुंबई

अब तक 12 लाख लोगों की जान बचा चुकी है

मुंबई, तहलका एमपी-सीजी। भारत की सर्वप्रथम अस्पताल ट्रेन लाइफलाइन एक्सप्रेस गुरुवार को मुंबई के छत्रपति शिवाजी टर्मिनस पर पहुंची।इस ट्रेन की शुरूआत सन् 1991 में हुई थी। यह लाइफलाइन एक्सप्रेस अब तक भारत के आस-पास के सभी इलाकों में  लगभग 12 लाख रोगियों को चिकित्सा सुविधा प्रदान कर चुकी है। इस ट्रेन का नाम लाइफलाइन एक्सप्रेस इसलिए रखा गया क्योंकि यह चलता फिरता अस्पताल है। यह लाइफलाइन एक्सप्रेस अब तक देश के 19 राज्यों  की यात्रा कर चुकी है। 138 जिलों में 201 ग्रामीण स्थानों का दौरा किया गया । इस दौरे में पता चला कि इस ट्रेन ने  12 लाख मरीजों को चिकित्सा सुविधा प्रदान की मरीजों में सर्जरी के 1.46 लाख मरीज भी शामिल है। 
 लाइफलाइन एक्सप्रेस को कार्य में लाने के लिए पहले देश के ग्रामीण इलाकों और पिछड़े क्षेत्रों में मरीजों का एक खाका तैयार किया जाता है। इस ट्रेन में इलाज के लिए एक तारीख दी जाती है।  इसके बाद तय समय पर मरीजों का इलाज किया जाता है। लाइफलाइन एक्सप्रेस में मरीजों की जांच से लेकर सर्जरी तक की जाती है। इस कार्य में बड़ी-बड़ी कंपनियां सीएसआर (कॉर्पोरेट सोशल रिस्पॉन्सिब्लिटी) के तहत अपना योगदान भी दिया है। इसके लिए मरीजों से कोई शुल्क भी नहीं वसूला जाता है। इस ट्रेन ने भारत के साथ-साथ पूरी दुनिया में भी अपनी छाप छोड़ी है। सभी विकलांग वयस्कों और बच्चों के लिए मौके पर ही उपचार प्रदान करने के लिए लाइफलाइन एक्सप्रेस शुरू की गई थी। लाइफलाइन एक्सप्रेस की शुरुआत के लिए भारतीय रेलवे के पुराने पड़े डिब्बों को ठीक कराया गया। उन्हें अस्पताल के रूप में बदला गया। जानकारी के मुताबिक  पता चला है कि पिछले 28 सालों में केवल एक ही ट्रेन बनकर तैयार हुई है। जबकि अब तक हर जोन में एक ट्रेन होनी चाहिए थी। इस ट्रेन के  एक प्रोजेक्ट पर एक से 1.5 करोड़ रुपये खर्च हो चुके है। इस प्रोजेक्ट में सरकार चाहें तो मदद कर सकती है। शुरूवात में इस  ट्रेन में आदिवासी इलाकों के लोगों का मोतियाबिंद का ऑपरेशन किया जाता था। अब प्लास्टिक सर्जरी, ईएनटी और कैंसर जैसी गंभीर बीमारियों का इलाज किया जा रहा है।

Related posts

देश को बदनाम करने के आरोप में नेटफ्लिक्स के खिलाफ शिवसेना ने दर्ज कराई शिकायत

gyan singh

छह महीने में शादी करेंगी मिया खलीफा, ये है वजह…

News Desk

मेट्रो के लिए काटे जा रहे हैं 2700 पेड़, विरोध करने पहुंची श्रद्धा कपूर

gyan singh

Leave a Comment