मध्यप्रदेश

वेलकम बैक मामाजी : 17 दिन तक चला मध्यप्रदेश का सियासी ड्रामा, शिवराज सिंह चौहान ने मुख्यमंत्री पद की ली शपथ

मध्यप्रदेश के सियासी घमासान के बाद सोमवार रात 9 बजे शिवराज सिंह चौहान ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। मध्यप्रदेश के प्रदेश के इतिहास में ऐसा पहली पहली बार हुआ है की किसी नेता ने चौथी बार मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। ये सियासी युद्ध होली पर शुरू हुआ था जब ज्योतिरादित्य सिंधिया संग 22 बागी विधायकों ने कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया था। फ्लोर टेस्ट को आसानी से पार करने के बाद शिवराज सरकार के सामने एक चुनैती है। 6 महीने के अंदर होने वाले विधानसभा उप-चुनाव में से शिवराज सरकार को अपनी सत्ता कायम रखने के लिए कम से कम 9 सीटें जीतनी होंगी। बता दें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को चार बार बात की। इसके बाद शिवराज को मुख्यमंत्री बनाने का फैसला लिया गया। मोदी ने शिवराज को कल ही इस बात के संकेत दे दिए थे कि उन्हें मुख्यमंत्री पद संभालना है। सोमवार सुबह गृहमंत्री अमित शाह और भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा के साथ पार्टी के संगठन महामंत्री बीएल संतोष ने बैठक की और इस फैसले को अंतिम रूप दिया। प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने बताया कि विधायक दल की बैठक के बाद हम राज्यपाल से मिलने जाएंगे।
17 दिन तक चले मध्यप्रदेश के सियासी ड्रामे के बाद 15 साल से राज कर रही सरकार वापिस सत्ता में आयी। शिवराज के निजी निवास और आस पास के गाँव में लोगों ने फटाके फोड़ कर शिवराज के एक बार फिर मुख्यमंत्री बनने की ख़ुशी मनाई।

Related posts

कलेक्टर का अनोखा आदेश बना चर्चा का विषय। रोका राजस्व अधिकारियों का वेतन…

News Desk

चरण वंदन पर विपक्ष ने घेरा। बयानबाजी का दौर हुआ शुरू….

sundeep gautam

मंदिर पर हथियारबंद डकैतों ने धावा बोल चौकीदार और पुजारी को पीटा

News Desk

Leave a Comment