अंतर्राष्ट्रीय

आतंकी फंडिंग को लेकर होने जा रही है FATF की बैठक

इस्लामाबाद, तहलका एमपी-सीजी। फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स आतंकी फंडिंग और मनी लांड्रिंग पर अंकुश लगाने के लिए पाकिस्तान की ओर से उठाए गए कदमों का अंतिम मूल्यांकन करने जा रहा है। यह मूल्यांकन थाइलैंड में आठ से दस सितंबर तक होने वाली एफएटीएफ की बैठक में किया जाएगा। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर आतंकी फंडिंग पर नजर रखने वाले एफएटीएफ ने पाकिस्तान को 27 बिंदुओं पर काम करने को कहा था। अगर पाकिस्तान इन बिंदुओं पर खरा नहीं उतरा तो उसे काली सूची में डाला जा सकता है। अभी वह एफएटीएफ की ग्रे सूची (निगरानी) में है। एफएटीएफ से संबद्ध एशिया-प्रशांत समूह (एपीजी) ने हाल में पाकिस्तान को काली सूची में डाल दिया था। 

पाक मीडिया के अनुसार, एफएटीएफ की बैठक में हिस्सा लेने के लिए पाकिस्तान का एक प्रतिनिधिमंडल सात सितंबर को थाइलैंड की राजधानी बैंकॉक पहुंचेगा। अंतिम मूल्यांकन से ही पाकिस्तान पर एफएटीएफ के फैसले की दिशा तय होगी। इस संदर्भ में 13 से 18 अक्टूबर तक पेरिस में होने वाली बैठक में अंतिम फैसला होगा। कैनबरा में 18 से 23 अगस्त तक हुई एपीजी की बैठक में पाकिस्तान के कदमों की समीक्षा की गई थी। इसमें माना गया कि पाकिस्तान एपीजी के 40 मानकों में से 32 का पालन करने में विफल रहा। इसके आधार पर एपीजी ने उसे काली सूची में डाल दिया था। एपीजी की बैठक में एफएटीएफ की ओर से पाकिस्तान से करीब 100 अतिरिक्त सवालों के जवाब भी मांगे गए थे। पाकिस्तान की ओर से इनके जवाब बैंकॉक बैठक में दिए जाएंगे। एफएटीएफ को पाकिस्तान यह भी बताएगा कि प्रतिबंधित आतंकी संगठनों की गतिविधियों पर अंकुश लगाने और उनकी संपत्तियों को जब्त करने के लिए उसने क्या कदम उठाए हैं।

Related posts

अब लंदन की सड़कों पर दौड़ेगी, भारत की ओला कैब

Manager TehelkaMP

थाईलैंड में बोले PM मोदी- यह भारत में निवेशकों के लिए सबसे अच्छा समय..

News Desk

गूगल ने बंद किया ट्रैवल प्लानिंग एप, जानिए क्यों…

News Desk

Leave a Comment